rahim ke dohe 2th
Hindi 50 Marks

रहीम के दोहे कक्षा 12 | Hindi 50 Marks Class 12th Rahim ke Dohe | रहीम के 10 दोहे अर्थ सहित 12th

रहीम के दोहे कक्षा 12 | Hindi 50 Marks

रहीम के दोहे कक्षा 12 ,Hindi 50 Marks Class 12th Rahim ke Dohe


 

रहिमन वे नर मर चुके, जे कहुँ माँगन जाहिं ।
उनसे पहले वे मरे, जिन मुख निकसत नाहिं ।। 1 ।।

ररिमन, पानी राखिये. बिन पानी सब सून ।
पानी गये न ऊबरै, मोती मानुस चून ।। 2 ।।

रहिमन, जिह्वा बावरी, कहि गयी सरग-पताल ।
आपु तो कहि भीतर गयी, जूति खात कपाल ।। 3 ।।

नाद रीझि तन देत मृग, न धन हेतु-समेत ।
ते रहीम पशु ते अधिक, रीझेहु कछू न देत ।। 4 ।।

धनि रहीम जल पंक को, लघु जिय पियत अघाई।
उदधि बढ़ाई कौन है, जगत पियासो जाई ।। 5 ।।

रहिमन, राज सराहिये, ससि सम सुखद जो होई।
कहा बापुरो भानु है, तपै तरैयनि खाइ ।। 6 ।।

ज्यों रहीम गति दीप की, कुल कपूत गति सोई।
बारे उजियारो करै, बढ़े अँधेरो होई ।। 7 ।।

माँगे घटत रहीम पद, कितौ करौ बड़ काम ।
तीन पैर बसुधा करी, तऊ बावनै नाम ।। 8 ।।

रहिमन, निज मन की व्यथा, मन ही राखो गोय।
सुन अठिलैहैं लोग सब, बाँटि न लैहैं कोय ।। 9 ॥

जो रहीम ओछौ बढे तो अति ही इतराइ ।
प्यादा सों फरजी भयो, टेहो-टेढो जाई ।। 10 ।।।

Class 12th SOCIOLOGY Objective
English 50 Marks ‘OUR OWN CIVILIZATION
English 50 marks Poem IF SUMMARY
Hindi 50 Marks सुन्दर का ध्यान कहीं सुन्दर
पैरामेडिकल मॉडल पेपर 2020 
बिहार आईटीआई ( ITI ) 2020 फॉर्म कब भरा जाएगा